Thursday, April 25, 2024
spot_img
HomeViral VideoInspirational StoriesFriendship Day Special : ऐसे दो दोस्त जिनकी दोस्ती है मिसाल, 20000...

Friendship Day Special : ऐसे दो दोस्त जिनकी दोस्ती है मिसाल, 20000 रुपये से शुरू की थी कंपनी, आज हजारों करोड़ का है कारोबार

spot_img
spot_img

Friendship Day Special : आज फ्रेंडशिप (Friendship Day) डे है, हर साल अगस्त महीने के पहले रविवार को फ्रेंडशिप डे यानी मित्रता दिवस के रूप में मनाया जाता है। भारत समेत कई देशों में लोग दोस्ती के इस खास दिन को बड़ी धूमधाम से मनाते हैं। जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है फ्रेंडशिप डे यानी ऐसा दिन जो दोस्ती के नाम समर्पित है। वैसे तो लोग भगवान श्रीकृष्ण और सुदामा की अनूठी दोस्ती की मिसाल देते है, लेकिन आज हम आपको इस खास दिन पर और दो ऐसे दोस्तों के बारे में बताने जा रहे है, जिन दोस्तों की दोस्ती भी किसी मिसाल से कम नहीं है, इनकी दोस्ती की दास्तान बहुत ही दिलचस्प है। तो चलिए जानते है…

आपको शोले वाले जय-वीरू की दोस्ती तो याद ही होगी। वैसी गहरी दोस्ती केवल फिल्मों में ही नहीं बल्कि हकीकत में भी होती है, लेकिन इन दोनों की दोस्ती कारोबार के साथ भी बरकार रही। दरअसल, हम बात कर रहे हैं इमामी (Emami) के फाउंडर राधेश्याम अग्रवाल (Radheshyam Agarwal) और राधेश्याम गोयनका (Radheshyam Goenka) की। अक्सर देखा गया है कि दोस्ती जब कारोबारी पार्टनरशिप में बदलती है तो उसमें दरार आने की गुंजाइश और मन-मुटाव पैदा हो जाता है, लेकिन इमामी (Emami) के फाउंडर इस मामले में अपवाद हैं। बचपन की दोस्ती कारोबार शुरू होने के बाद और गहराई और इतनी गहराई कि दोनों के परिवार, किसी टीवी सीरियल की एक बड़ी फैमिली जैसे हैं। इतना ही नहीं अब दोनों दोस्तों ने कंपनी में अपने एग्जीक्यूटिव रोल एक ही साथ छोड़ने का फैसला भी किया है।

Friendship Day : दोनों दोस्तों ने 20000 रुपये से शुरू किया अपना बिजनेस

इन दोनों दोस्तों ने 20000 रुपये से अपना बिजनेस शुरू किया था। आज उनके द्वारा खड़े किए गए इमामी ग्रुप (Emami Group) का रेवेन्यु 20000 करोड़ रुपये का है। ग्रुप की फ्लैगशिप कंपनी इमामी लिमिटेड (Emami Limited) का प्रबंधन नियंत्रण अब जल्द संस्थापकों की अगली पीढ़ी के पास जाने वाला है। दोनों फाउंडर्स आर एस गोयनका (RS Goenka) और आर एस अग्रवाल (RS Agarwal) ने अपने एग्जीक्यूटिव रोल छोड़ने का फैसला किया है। आरएस गोयनका के बड़े बेटे मोहन गोयनका और आरएस अग्रवाल के छोटे बेटे हर्ष अग्रवाल क्रमश: कंपनी के वाइस-चेयरमैन और प्रबंध निदेशक का पद संभालेंगे। हालांकि, कंपनी के संस्थापक कंपनी के बोर्ड में बने रहेंगे। आर एस गोयनका एक अप्रैल से गैर-कार्यकारी चेयरमैन रहेंगे, जबकि आर एस अग्रवाल मानद चेयरमैन रहेंगे और दोनों इन भूमिकाओं के लिए वे कोई भुगतान नहीं लेंगे।

कुछ यूं हुई इन दोनों की दोस्ती की शुरूआत

राधेश्याम गोयनका और राधेश्याम अग्रवाल कोलकाता के एक ही स्कूल में पढ़ते थे। राधेश्याम अग्रवाल, राधेश्याम गोयनका से सीनियर थे। दोनों का परिचय एक कॉमन फ्रेंड के जरिए हुआ। अग्रवाल जल्द ही स्कूल के पाठ्यक्रम पर अपने जूनियर को पढ़ाने के लिए कमोबेश रोजाना गोयनका के घर जाने लगे। राधेश्याम गोयनका के पिता वैसे तो काफी अनुशासनप्रिय और गुस्से वाले थे लेकिन राधेश्याम की जोड़ी के लिए उनके पास स्नेह के अलावा कुछ नहीं था।

जब आरएस अग्रवाल ने कॉलेज में लिया दाखिला

1964 में अग्रवाल ने बी कॉम पास किया और चार्टर्ड अकाउंटेंसी की पढ़ाई की, जिसे उन्होंने पहले अटेम्पट में और मेरिट के साथ पूरा किया। गोयनका ने एक साल बाद अपना बी कॉम पूरा किया और आगे एम कॉम और एलएलबी करने के लिए बढ़े। गोयनका को देखकर अग्रवाल ने भी फैसला किया कि उन्हें अपने कानूनी कौशल को सुधारने की जरूरत है और वह भी लॉ करने के लिए गोयनका के साथ चले गए। यहां यह जानना दिलचस्प है कि उस दौरान कोलकाता के सेंट जेवियर्स कॉलेज, जहां अग्रवाल ने ग्रेजुएशन करने के लिए एडमिशन लिया था, उसमें अमीरों के कॉन्वेंट में पढ़े-लिखे बच्चे जाते थे। बड़ा बाजार के हिंदी मीडियम के स्कूलों के बच्चों के लिए सिटी कॉलेज था, लेकिन अग्रवाल इस परंपरा को तोड़ने पर तुले थे। उन्होंने अपनी अंग्रेजी को कड़ाई से सुधारा और सुनिश्चित किया कि उन्हें जेवियर्स में एक सीट मिले।

वहां की भीड़ ने शुरू में टूटी-फूटी अंग्रेजी वाले मोटे मारवाड़ी लड़के को स्वीकार नहीं किया, लेकिन वह अपने तेज दिमाग के कारण क्लास में फेमस हो गए। इस बीच गोयनका ने उन दिनों अन्य मारवाड़ी बच्चों की तरह पड़ोस के सिटी कॉलेज को चुना। इसकी वजह है कि गोयनका एक औसत छात्र थे और जेवियर्स में एडमिशन लेने के लिए उनके पास आवश्यक नंबर नहीं थे। 1968 तक दोनों ने अपनी स्टडी पूरी कर ली थी।

कॉलेज खत्म होने से पहले ही कर दिया था बिजनेस में हाथ आजमाना शुरू

कॉलेज में रहते हुए, दोनों कॉलेज स्ट्रीट में सेकेंड हैंड बुकशॉप में घंटों बिताते थे जिसमें कॉस्मेटिक्स के लिए केमिकल फॉर्मूलों वाली बुक्स होती थीं। उनकी योजना ऐसे प्रोडेक्टस बनाने की थी, कोलकाता के बड़ा बाजार में हॉट केक्स की तरह बिकते थे। कॉलेज खत्म करने से पहले ही अग्रवाल और गोयनका ने कई बिजनेस में हाथ आजमाना शुरू कर दिया। उन्होंने इसबगोल और टूथ ब्रश की रीपैकेजिंग से लेकर प्रसिद्ध जैसोर कॉम्ब्स में ट्रेडिंग और लूडो जैसे बोर्ड गेम्स की मैन्युफैक्चरिंग तक में हाथ आजमाया। बोर्ड गेम्स की मैन्युफैक्चरिंग के लिए अग्रवाल कम लागत वाला, घर का बना गोंद तैयार करते थे और बोर्ड को चिपकाने के लिए श्रमिकों के साथ बैठते थे। कॉलेज के बिजी शिड्यूल के बावजूद, दोनों अपने सामान को हाथ से खींचे जाने वाले रिक्शा पर ले जाते, बड़ा बाजार में दुकान से दुकान तक बेचते।

फिर गोयनका के पिता ने दिए 20000 रुपये

दोनों दोस्त करना तो बहुत कुछ चाहते थे लेकिन पैसे की कमी हमेशा रोढ़ा बनकर सामने आ जाती थी। फिर उन्होंने महसूस किया कि पर्याप्त सीड फंडिंग बिना उनका व्यापार फल-फूल नहीं पाएगा। यहां उन्हें उबारा गोयनका के पिता केशरदेव ने। केशरदेव गोयनका ने दोनों दोस्तों को 20000 रुपये दिए, जो उन दिनों एक अच्छी खासी रकम हुआ करती थी। साथ ही अपने बेटे और उसके दोस्त के बीच 50:50 की साझेदारी की। इस तरह जन्म हुआ केमको केमिकल्स का।

यहां शुरू हुई पहली यूनिट

उत्तरी कलकत्ता में महलनुमा मार्बल पैलेस के आसपास के क्षेत्र में 48, मुक्ताराम बाबू स्ट्रीट में केमको केमिकल्स की एक छोटी निर्माण इकाई के साथ संचालन शुरू हुआ। केशरदेव की ओर से मिली 20000 रुपये की मदद ने गोयनका और अग्रवाल का उत्साह बढ़ाया लेकिन माहौल ठीक नहीं था। ऐसी प्रतिकूलता छाती गई, जिसने कई सालों पुरानी कंपनियों पर व्यवसाय से बाहर होने का खतरा पैदा कर दिया। 10 साल बाद गोयनका और अग्रवाल को उनका सबसे बड़ा अवसर मिला, जब 1978 में उन्होंने हिमानी लिमिटेड को खरीदा।

केमको केमिकल्स की स्थापना के एक साल के भीतर, गोयनका और अग्रवाल ने देखा कि उनकी पूंजी पूरी तरह से खत्म हो गई है। व्यवसाय उधारी पर चलता था, लिहाजा ग्राहकों से उन्हें धोखा खाने को मिला। इस झटके से दोनों दोस्तों ने सबक सीखा कि उचित हिसाब रखने की जरूरत है। शर्मिंदा और पछतावे से भरे हुए, दोनों केशरदेव के पास वापस गए और उन्हें बताया कि वे कारोबार समेटना चाहते हैं। लेकिन वह इतना सुनते ही गरज पड़े और अपने बेटे और उसके दोस्त से कहा कि वह उन्हें 1 लाख रुपये और देने को तैयार हैं, लेकिन भागने का कोई सवाल पैदा नहीं होता है। उसके बाद दोनों दोस्त चीजों को कैसे प्राप्त किया जाए, इस बारे में बेहतर निर्णय के साथ व्यवसाय में वापस आ गए।

बिड़ला समूह में नौकरी भी की

1968 में केमको केमिकल्स की शुरुआत में, कंपनी ने बुलबुल और कांति स्नो, पॉमेड या गरीब आदमी की वैसलीन जैसे सस्ते सौंदर्य प्रसाधनों की रिपैकेजिंग शुरू की। ये ऐसे उत्पाद थे, जिन्हें देश के नवजात सौंदर्य प्रसाधन बाजार में बहुत संरक्षण मिला था। लेकिन मार्जिन कम था और दोनों बड़ा बाजार में थोक विक्रेताओं को पूरे कार्टन 36 रुपये प्रति ग्रूस या 3 रुपये दर्जन के हिसाब से बेचते थे। कुछ साल बीत गए, लेकिन केमको का विस्तार घोंघे की गति से चल रहा था। इसी के आसपास अग्रवाल और गोयनका दोनों ने क्रमशः उषा और सरोज से शादी की, और इसके साथ ही जिम्मेदारियां भी आईं। अधिक पैसा बनाने का दबाव बढ़ रहा था और इसलिए जब कलकत्ता के तत्कालीन प्रमुख कॉर्पोरेट घराने बिड़ला समूह के लिए काम करने का अवसर आया, तो दोनों इसे हाथ से जाने नहीं देना चाहते थे। 1970 के दशक के मध्य तक गोयनका, केके बिड़ला समूह में आयकर विभाग के प्रमुख बन गए और अग्रवाल आदित्य बिड़ला समूह के उपाध्यक्ष बन गए। साइड में उनका बिजनेस भी चलता रहा।

यूं शुरू हुआ इमामी ब्रांड

अब दोनों दोस्त बिड़ला समूह जैसे बड़े कॉर्पोरेट सेट अप के कामकाज से अवगत हो चुके थे। गोयनका और अग्रवाल ने महसूस किया कि अगर उन्हें बड़ी लीग में प्रवेश करना है तो उन्हें उत्पाद लाइन में अंतर लाना होगा, लीक से हटकर सोचना होगा और उनके मार्जिन में सुधार करना होगा। उन दिनों इंपोर्टेड कॉस्मेटिक्स और विदेशी लगने वाले ब्रांड नामों का क्रेज था। लाइसेंस राज के तहत ऐसी विवेकाधीन वस्तुओं पर प्रतिबंध था, लेकिन फिर भी उनके लिए एक बड़ी गुप्त मांग थी। 140 प्रतिशत उत्पाद शुल्क के कारण अधिकांश लोग इंपोर्टेड वर्जन्स को वहन नहीं कर सकते थे। गोयनका और अग्रवाल ने इस मौके को भुनाने का फैसला किया और नौकरी छोड़ 1974 में इमामी ब्रांड लॉन्च किया।

नए ब्रांड के तहत उन्होंने जो कोल्ड क्रीम, वैनिशिंग क्रीम और टैल्कम पाउडर लॉन्च किया, उसे बाजार से इतनी जबरदस्त प्रतिक्रिया मिली कि इमामी को एक घरेलू नाम के रूप में स्थापित होने में देर नहीं लगी। कुछ चीजें थीं जो उन्होंने सही कीं। केमको के पास अपने प्रतिद्वंद्वियों पॉन्ड्स और एचयूएल जैसी भव्य विज्ञापन और प्रचार गतिविधियों पर खर्च करने के लिए एक पैसा भी नहीं था। तो इसके बजाय उसने जो किया वह पुरानी शराब को नई बोतल में बेचने जैसा रहा। केमको ने पैकेजिंग को पूरी तरह से नया रूप दिया। शुरुआत में दोनों दोस्त फुटपाथ पर बैठकर चाय पीते हुए डिस्कस करते थे कि प्रॉडक्ट कैसे बेचे जाएं। वे खुद स्टोर्स में जाते थे अपने प्रॉडक्ट दिखाते थे। बाद में पैसे कलेक्ट करने भी खुद ही जाते थे।

ऐसे कॉस्मेटिक्स मार्केट में मचाया तहलका

पुराने जमाने में टैल्कम पाउडर टिन के कंटेनर में बेचा जाता था और ब्रांड नाम सीधे टिन पर स्क्रीन प्रिंट होता था। इसमें आकर्षक कुछ भी नहीं था। इमामी को भारतीय बाजार में पहली बार फोटो टोन लेबल वाले ब्लो मोल्डेड प्लास्टिक कंटेनर में पेश किया गया। गोल्डन लेबलिंग वाला सुंदर हाथीदांत रंग का कंटेनर ऐसा लग रहा था जैसे इसे विदेश से भेजा गया हो। उस समय भारत सरकार ने कंटेनर पर एमआरपी (अधिकतम खुदरा मूल्य) मुद्रित करना अनिवार्य नहीं किया था, जिससे उन्हें काफी मदद मिली। उनका उत्पाद, विशेष रूप से टैल्क इतना हिट रहा कि दुकानदार इसे स्टॉक में रखने के लिए हरसंभव कोशिश करने लगे। इमामी ब्रांड पूरे देश की नजर में तब आया जब इसने माधुरी दीक्षित को ब्रांड एंबेसडर के रूप में साइन किया।

इमामी की सफलता ने एचयूएल जैसे बाजार के दिग्गजों को स्तब्ध कर दिया। कंपनी के अन्य उत्पादों ने भी इसी तरह की हलचल पैदा की। वैनिशिंग क्रीम ने कुछ ही महीनों में पॉन्ड्स को कड़ी टक्कर दी और कुछ ही वर्षों में इमामी की बाजार हिस्सेदारी बढ़कर 25 प्रतिशत हो गई और कंपनी इस क्षेत्र में अग्रणी बन गई। इमामी के कोल्ड क्रीम पाउच भी बहुत हिट हुए।

फिर झंडू ब्रांड को बनाया अपना

इमामी ने झंडू ब्रांड में अपनी रुचि दिखाने के लिए पहले ही खुले बाजार के माध्यम से 3.9 प्रतिशत की अल्पमत हिस्सेदारी का अधिग्रहण कर लिया था। बाद में और 24 फीसदी हिस्सेदारी के अधिग्रहण की प्रक्रिया सितंबर 2007 से लेकर मई 2008 के बीच पूरी हुई। इसके लिए इमामी ने 130 करोड़ रुपये का भुगतान किया। यह हिस्सेदारी इमामी ने देव कुमार वैद्य और अनीता वैद्य से खरीदी थी, जिनके ग्रेट ग्रैंडफादर जगतराम वैद्य ने 1920 में झंडू की शुरुआत की थी।

झंडू में अब 27 प्रतिशत शेयरधारक के रूप में, देश में टेकओवर कोड नियमों के अनुसार इमामी के पास कंपनी में अन्य 20 प्रतिशत हिस्सेदारी के लिए एक खुली पेशकश करने का अधिकार था। जब इमामी ने इसकी सार्वजनिक घोषणा की, तो काफी सालों से झंडू के ऑपरेशंस संभाल रहे पारिख परिवार ने सेबी के समक्ष अधिग्रहण नियमों के उल्लंघन की याचिका रखी और तर्क दिया कि वैद्य के अपने शेयर बेचने के फैसले से इनकार करने का उनका पहला अधिकार था। पारिख परिवार की झंडू में 18 फीसदी हिस्सेदारी थी।

इमामी द्वारा खुली पेशकश की घोषणा के चार दिनों के भीतर, झंडू बोर्ड ने इमामी की हिस्सेदारी को कम करने के लिए प्रमोटरों को तरजीही आवंटन पर चर्चा करने के लिए बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज को एक नोटिस भी भेजा। मामला पहले सेबी, फिर कंपनी लॉ बोर्ड और फिर बॉम्बे हाई कोर्ट पहुंचा। इमामी के सौभाग्य से, पारिख अदालतों में अपना आरओएफआर (पहले इनकार का अधिकार) साबित नहीं कर सके… सितंबर 2008 तक, सेबी ने इमामी के खुले प्रस्ताव को भी मंजूरी दे दी, पारिख के पास समझौते के लिए बातचीत करने के अलावा कोई विकल्प नहीं बचा। पारिख, झंडू में अपनी 18.18 प्रतिशत हिस्सेदारी इमामी को 15,000 रुपये और 1,500 रुपये प्रति इक्विटी शेयर के गैर-प्रतिस्पर्धी शुल्क पर बेचने पर सहमत हुए। इमामी ने खुले बाजार में 28.5 फीसदी की और खरीदारी की, जिससे झंडू में उसकी कुल हिस्सेदारी करीब 71 फीसदी हो गई। यह सब सौदे की समग्र अधिग्रहण लागत को 730 करोड़ रुपये तक ले गया।

इमामी की कामयाबी की दास्तान में अहम तारीखें

1978 में हिमानी लिमिटेड को खरीदा
1982 में बोरोप्लस को लॉन्च किया
1989 में पुडुचेरी में दूसरी फैक्ट्री लगाई
1995 में बीएसई पर लिस्ट हुई
1998 में हिमानी, इमामी में मर्ज हुई
2015 में केश किंग का अधिग्रहण

आज इमामी ग्रुप का कारोबार कितना बड़ा

अभी इमामी ग्रुप का कारोबार 60 से ज्यादा देशों में फैला हुआ है। 130 से ज्यादा इमामी प्रॉडक्ट हर सेकंड बिकते हैं। इमामी लिमिटेड, जो ग्रुप की फ्लैगशिप कंपनी है, उसका टर्नओवर वित्त वर्ष 2020-21 में 2881 करोड़ रुपये दर्ज किया गया। बीएसई पर कंपनी का मार्केट कैप 22,143.45 करोड़ रुपये है। इमामी के पोर्टफोलियो में बोरोप्लस, नवरत्न, फेयर एंड हैंडसम, झंडू बाम, सोना चांदी च्यवनप्राश जैसे ब्रांड शामिल हैं। इमामी ग्रुप एफएमसीजी, न्यूजप्रिंट, बॉल पेन टिप्स मैन्युफैक्चरिंग, रिटेल, फार्मेसी, इंफ्रास्ट्रक्चर एंड डेवलपमेंट, आर्ट, इडिबल तेल, हेल्थकेयर, सीमेंट, बायो डीजल क्षेत्र में कारोबार करता है।

देश-विदेश की ताजा खबरें पढ़ने और अपडेट रहने के लिए आप हमें Facebook Instagram Twitter YouTube पर फॉलो व सब्सक्राइब करें।

spot_img
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

spot_img

Recent Comments

Ankita Yadav on Kavya Rang : गजल