Wednesday, July 24, 2024
spot_img
spot_img
HomeNationalअब यूपी के युवाओं के हाथ में कट्टे की जगह दिखाई दे...

अब यूपी के युवाओं के हाथ में कट्टे की जगह दिखाई दे रहा कलम- CM Yogi

spot_img
spot_img
spot_img

आजमगढ़। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने बुधवार को यहां एसकेपी इंटर कॉलेज मैदान से चुनावी जनसभा (Nikay Chunav 2023) को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने विपक्षी दलों पर जमकर हमला बोला। सीएम योगी ने कहा दुनिया के अंदर आजगमढ़ को कभी उसके ओज और तेज के जाना जाता था। मगर 2017 पहले जिनके पास सत्ता की बागडोर थी उन लोगों ने इसका केवल दोहन करने का काम किया। हमारे युवाओं के हाथों में कलम के स्थान पर कुछ लोगों ने कट्टा देने का काम किया। आज समय बदल चुका है और हम युवाओं को कट्टे से कलम की ओर लेकर जा रहे हैं। हम अपने युवाओं तमंचे नहीं टैबलेट दे रहे हैं। उन्हें तकनीकी से जोड़कर स्किल्ड बना रहे हैं।

अब कर्फ्यू नहीं कांवड़ यात्रा निकलते हैं- योगी

सीएम ने कहा, यूपी की पहचान देश के सबसे प्रगतिशील राज्य की बन चुकी है। पीएम के विजन को हम मिशन मान कर काम कर रहे हैं। अब कर्फ्यू नहीं कांवड़ यात्रा निकलते हैं। पहले पर्व और त्यौहार के पहले उपद्रव होते थे, अब उत्सव मनाए जाते हैं। आजमगढ़ वालों को निरहुआ का गाना सुनने के लिए इंद्र भगवान भी कृपा कर रहे हैं। ऐसा लग रहा है कि आप शिमला मसूरी में बैठे हैं।

संकट पैदा करने वालों से मुक्त हो चुका है आजमगढ़- योगी

मुख्यमंत्री ने बीजेपी प्रत्याशियों लिए चुनाव प्रचार करते हुए कहा कि आजमगढ़ बाबा भंवरनाथ की कृपा से पुष्पित पल्लवित और परम तपस्वी महर्षि दुर्वासा और श्री दत्तात्रेय जी की पावन धरा है। संतों, ऋषियों, क्रांतिकारों और साहित्यकारों ने इसे समय समय पर सींचा है। ऐसे आजमगढ़ की धरा को जिसने हरिहरपुर जैसे गांव को कला के लिए समर्पित किया है, उसे मैं कोटि-कोटि नमन करता हूं। स्वतंत्र भारत में बिना भेदभाव के विकास योजनाओं की जो आस थी, ये जनपद उससे विपरीत दिशा में चलता गया। कुछ लोगों ने युवाओं के हाथ में तमंचे देने का काम किया।

आजमगढ़ फिर से गौरवाशी अततीत के लिए जाना जा रहा

सीएम ने कहा मुख्यमंत्री ने कहा कि पहली बार आजमगढ़ से एक कलाकार सांसद बना। परिणाम ये रहा कि आज यहां हरिहरपुर संगीत महाविद्यालय बनाया गया। जनपद फिर से अपने गौरवशाली अतीत के लिए जाना जा रहा है। हम सभी जानते हैं कि 9 साल पहले देश के अंदर क्या स्थिति थी। दुनिया में भारत की साख नहीं बची थी। भारत का आदमी कहीं जाता था तो शक की निगाहों से देखा जाता था। दुनिया के लोग भारत के बारे में अच्छा नहीं सोचते थे।

2017 से पहले आजमगढ़ पहचान के लिए मोहताज था

उन्होंने आगे कहा, 2017 से पहले आजमगढ़ पहचान के लिए मोहताज था। यहां के लोगों के दूसरे शहरों में होटल और धर्मशालाओं में कमरे तक नहीं मिलते थे। जिन लोगों ने ये संकट पैदा किया था आज उससे मुक्त करके आजमगढ़ को पूर्वांचल एक्सप्रेस से जोड़ा जा चुका है। यहां एयरपोर्ट बन रहा है और अब कट्टा नहीं कलम के लिए महाराज सुहेलदेव के नाम पर विश्व विद्यालय भी शुरू हो चुका है, शीघ्र ही उसका प्रशासनिक भवन बनने जा रहा है।

spot_img
RELATED ARTICLES

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

spot_img

Recent Comments

Ankita Yadav on Kavya Rang : गजल