Thursday, April 25, 2024
spot_img
HomeKavya RangKavya Rang : अपनों के शहर में बेगाने

Kavya Rang : अपनों के शहर में बेगाने

spot_img
spot_img

अपनों के शहर में बेगाने होकर
किसी अपने को ढूंढ रही हूं।
नासमझ गिरते अश्कों को
अपने ही हाथों से पोंछ रही हूं।

दिल का बोझ अभी है कुछ बढ़ा हुआ
गैरों में अपनों का धोखा हुआ।
राह में चलते चलते
किसी से ठोकर लगी,
जरा झुक कर देखा, तो पाया
एक बेगाने की अर्थी थी।

उसे ही अपना बनाने की ललक में
जैसे ही एक फूल हाथ में उठाया,
उसके ठंडे जिस्म से एक दर्द भरी आवाज उमरी, ठहरो!
मुझे अपना ना बनाओ।
मेरे प्यारों ने ही सड़क पर
लाकर खड़ा किया मुझे।

मेरे लाडले सुख के पालने में झूल रहे हैं।
मैं उनके दर पर अंतिम संस्कार को तरस रहा हूं।
उस वक्त दिल के किसी कोने से
एक ही आवाज उभरी,
क्या फायदा ऐसे रिश्तो से?

जो स्वार्थ को अपना धर्म बनाते हैं।
इन्हीं अपनों की भूल भुलैया में पड़कर
हम अपने अंतिम संस्कार को भी तरस जाते हैं।

By- प्रीति खन्ना

spot_img
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -spot_img

Most Popular

spot_img

Recent Comments

Ankita Yadav on Kavya Rang : गजल